WhatsApp Image 2024-01-25 at 4.44.52 PM
WhatsApp Image 2024-01-25 at 4.21.20 PM
vivek3
previous arrow
next arrow

ब्रेकिंग
प्रधानमंत्री वर्चुअली आज करेगे निर्माण कार्यो का लोकापर्ण एवं शिलान्यास लोकापर्ण एवं शिलान्यास कार्यक्रम गरिमा पूर्ण ढंग से आयोजित करेः-कलेक्टरएमपी ट्रांसको ने सृदृढ किया सिंगरौली जिलें की विद्युत पारेषण व्यवस्था को डोंगरीताल में ऊर्जीकृत हुआ 50 एम व्ही ए क्षमता का पावर ट्रांसफार्मररेलवे में टेक्नीशियन के 9 हजार पदों पर भर्ती का एलानसीधी में चचेरी बहनों ने एक साथ की आत्महत्या, घर सेप्रधानमंत्री आज जारी करेंगे किसान सम्मान निधि की राशि 16वीं किस्तसिंगरौली जिले में अदाणी फाउंडेशन के सहयोग से चार दिवसीय फुटबॉल प्रतियोगिता का आयोजन, धिरौली बना चैम्पियनजन भागीदारी पार्टी के तत्वधान, में कार्यकर्ता बैठक एवम हक हिस्सा अधिकार सम्मेलन आयोजित कियाएस०एम०एस० वाराणसी के चार दिवसीय स्पोर्ट्स फेस्ट का हुआ भव्य समापनपीएम मोदी ने बरगवां, ब्यौहारी, समेत MP के 33 रेलवे स्टेशनो के रीडवलपमेंट प्रोजेक्ट का किया वर्चुअली शिलान्यासभ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा गरीब साहनी परिवार

नमस्कार 🙏हमारे न्यूज़ पोर्टल में आपका स्वागत है यहां आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा खबर एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9826111171.6264145214 हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें साथ हमारे फेसबुक को लाइक जरुर करें

उत्तरप्रदेशवाराणसी

गौ-माता की करुण पुकार । सुने देश की हर सरकार ।।- जगद्गुरु शङ्कराचार्य

रोहित सेठ

 

गाय भारतीय संस्कृति की आत्मा है। महाभारत (अनुशासन पर्व अ. १४५) के अनुसार सृष्टि की रचना के इच्छुकl ब्रह्माजी ने सबसे पहले गौ-माता का निर्माण किया था, ताकि उनकी सृष्टि का पोषण हो सके। पोषण के अपने इसी गुण से गाय विश्व-माता कहलायी। इसे वेदों और पुराणों में ‘अहन्या, अवघ्या’ कहा गया, पर दुर्भाग्य से इस समय विश्व में सबको पालन-पोषण करने वाली को काटने और खाने का चलन हो रहा है, जो कि भारतीय कृतज्ञ संस्कृति पर कलङ्क की तरह है।

 

पूर्व काल में राजा परीक्षित के सामने कलयुग ने डण्डे से गी को मारना चाहा था, तब वे उसे मृत्युदण्ड दे रहे थे और आज के राजा गाय को काटते और करुण पुकार करते हुए देखकर भी कैसे चुप रह सकते हैं? गौ-माता की इसी करुण पुकार को सरकार के सामने, सरकार के सुनाने और सरकार द्वारा गौ-व्यथा को दूरकर उन्हें अभय और प्रतिष्ठा प्रदान करने के लिए राष्ट्र-व्यापी गौ-प्रतिष्ठा आन्दोलन आरम्भ हुआ है, जिसको देश के चारों पीठों के पूज्य शङ्कराचार्यों एवं अन्य विशिष्ट धर्माचार्यों के साथ-साथ कुछ प्रदेशों की विधान सभाओं का भी सहयोग मिल रहा है।

 

गौ-प्रतिष्ठा आन्दोलन के अन्तर्गत आज दिनाङ्क १२ दिसम्बर, २०२३ को श्रीकाशी (वाराणसी) से ‘भारत के सभी प्रदेशों के लिए गौ-दूतों की नियुक्ति की जा रही है। ये गौदूत सन्त उन-उन प्रदेशों के गौ-भक्तों से मिलकर आन्दोलन को गति प्रदान करेंगे।

 

दिनाङ्क ४ जनवरी, २०२४ को वृन्दावन में सभी प्रदेशों के गौ-भक्तों की एक विशेष गौ-सभा आयोजिल होगी, जिसमें आन्दोलन के विविध पहलुओं को स्पष्टता देते हुए कमर-कसी जायेगी।

 

दिनाङ्क १५ जनवरी से २३ जनवरी, २०२४ तक नौ दिनों में दिल्ली में गौ-प्रतिष्ठा आन्दोलन के लिए नौ-विशेषज्ञ समूहों की बैठक आयोजित की जायेगी। जिसमें गौ धर्म विशेषज्ञ गौ अर्थ विशेषज्ञ, गौ कानून विशेषज्ञ,गौ विज्ञान विशेषज्ञ,गौ राजनीति विशेषज्ञ,गौ संगठन विशेषज्ञ ,गौ मीडिया विशेषज्ञ, गौ प्लेसमेंट विशेषज्ञ , गौ व्यवहार विशेषज्ञ धन समिति

यदि काम नहीं हुआ तो, दिनाक ३० जनवरी, २०२४ का विशेषज्ञों से प्राप्त आँकड़ों, निष्कर्षों के साथ गौ-प्रतिष्ठा आन्दोलन के लोगों को प्रतिनिधि मण्डल देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और विभिन्न प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों से मिलेंगे। यदि फिर भी काम नहीं बना तो दिनाङ्क ६ फरवरी, २०२४ को प्रयाग में वृहद ‘गौ-संसद्’ का आन्दोलन होगा, जिसमें देश की सभी संसदीय क्षेत्रों से एक गौ-प्रतिनिधि मनोनीत होकर सम्मिलित होगा और देश की जनता की ओर से प्रस्ताव पारित करेगा।यदि फिर भी काम नहीं बना तो दिनाङ्क १० मार्च, २०२४ को पूरे देश से दिल्ली में गौ-भक्त एकत्रित होंगे और दिनांक ६ फरवरी, २०२४ की गी-संसद् से पारित प्रस्तावों के अनुरूप कार्य करते हुए गौ-माता को राष्ट्रमाता की प्रतिष्ठा दिलाने के लिए प्रयास करेंगे।

 

विद्वान् सन्तों द्वारा यह पहले ही घोषणा की जा चुकी है कि नव-संवत्सर, गौ-संवत्सर होगा।

Janvi Express News

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!