WhatsApp Image 2024-01-25 at 4.44.52 PM
WhatsApp Image 2024-01-25 at 4.21.20 PM
vivek3
previous arrow
next arrow

ब्रेकिंग
शिक्षक में सेवाएं देने वाले राममणि पाण्डेय नहीं रहेट्रैक्टर टायर फटने से ट्रैक्टर मे लगी आग , ट्रैक्टर चालक कपड़ा व्यापारी की जिंदा जलकर हुई दर्दनाक मौतउपखण्ड अधिकारी अपने क्षेत्रो में कानून व्यवस्था के साथ साथ मतदान केन्द्रो पर रखे पैनी नजरः-कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारीपड़ोसी राज्य छत्तीसगढ़़ तथा उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जिलो में मतदान के 48 घण्टे पूर्व बंद रहेगी जिले की नजदीकी मदिरा की दुकानेपीड़ित मजदूर चंद्रशेखर ने मुख्यमंत्री विष्णु देव साय को सौंपाबोरवेल में गिरा 6 वर्ष का बालक हार गया जिंदगी की जंगमां को डर लगा रवि को बुलाया उसे पांच सौ रुपए देकर कहा कि यहां से भाग जाओ वरना जान नहीं बचेगी।डा भीमराव अंबेडकर जयंती की पूरे जिले में धूमधाम से मनाया गयामतदान केन्द्रों में फोटो वीडियोग्राफी प्रतिबंधित कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी ने जारी किये प्रतिबंधात्मक आदेशबागेश्वर धाम पहुंचे पन्ना किया भगवान जुगल किशोर के दर्शन उमड़ी भक्तों की अपार भीड़

नमस्कार 🙏हमारे न्यूज़ पोर्टल में आपका स्वागत है यहां आपको हमेशा ताजा खबरों से रूबरू कराया जाएगा खबर एवं विज्ञापन के लिए संपर्क करें 9826111171.6264145214 हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें साथ हमारे फेसबुक को लाइक जरुर करें

मध्यप्रदेशसिंगरौली

सिंगरौली जिला 15 जुलाई तक के लिए जल अभाव ग्रस्त क्षेत्र घोषित

धर्मेंद्र कुमार शाह की खास रिपोर्ट

 

कलेक्टर ने पेयजल परिरक्षण अधिनियम के तहत प्रतिबंधों के दिये आदेश

सिंगरौली 3 अप्रैल 2024/ जिले में विभिन्न कार्यों के लिए भू-गर्भीय जल स्त्रोतों के अत्याधिक दोहन एवं तापमान बढ़ने के साथ जल स्तर में तेजी से गिरावट के कारण जिले में आसन्न पेयजल संकट के कारण कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री चन्द्रशेखर शुक्ला ने सिंगरौली जिले में पेयजल परिरक्षण अधिनियम 1986 के प्रावधानों के तहत जिले को जल अभाव ग्रस्त क्षेत्र घोषित किया है। आदेश के तहत जिले में 15 जुलाई 2024 तक किसी भी शासकीय भूमि पर स्थिति जल स्त्रोतों में पेयजल तथा घरेलू उपयोग को छोड़कर पानी के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया गया है। जिले के सभी शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्र के समस्त जल स्त्रोतों जिनमें नदी, नाले, स्टाप डैम, सार्वजनिक कूप एवं अन्य जल स्त्रोत शामिल है उन्हें पेयजल तथा घरेलू कार्यों हेतु तत्काल प्रभाव से सुरक्षित किये जाने के आदेश दिये गये हैं। प्रतिबंध की अवधि में किसी भी व्यक्ति अथवा निजी एजेंसी द्वारा सक्षम प्राधिकारी की अनुमति के बिना नवीन नल कूप खनन की अनुमति नहीं होगी। शासकीय नल कूप खनन को प्रतिबंधों से छूट दी गयी है।

जारी आदेश के अनुसार प्रतिबंध की अवधि में यदि कोई व्यक्ति अपनी निजी भूमि पर नल कूप खनन कराना चाहता है तो उसे निर्धारित प्रारूप में शुल्क सहित अपने क्षेत्र के एसडीएम को आवेदन करना होगा। लिखित अनुमति मिलने के बाद ही नल कूप खनन किया जा सकेगा। यदि किसी क्षेत्र में सार्वजनिक पेयजल स्त्रोत सूख जाते हैं तथा विकल्प के रूप में अन्य सार्वजनिक पेयजल स्त्रोत उपलब्ध नहीं है ऐसी स्थिति में एसडीएम निजी पेयजल स्त्रोत को निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार अधिग्रहीत कर सकेंगे। प्रतिबंध के आदेश 15 जुलाई 2024 तक लागू रहेंगे। प्रतिबंध की अवधि में पेयजल परिरक्षण अधिनियम का उल्लंघन करने पर दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 188 के तहत दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। कलेक्टर ने सभी एसडीएम, तहसीलदार, पुलिस अधिकारियों तथा पीएचई विभाग के अधिकारियों को जारी आदेश का पालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये हैं। तत्काल प्रभाव से आदेश लागू किया जाना आवश्यक होने के कारण यह आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 (2) के तहत एक पक्षीय रूप से पारित किया जाता है।

 

लोकसभा निर्वाचन को लेकर वर्चुअल बॉर्डर मीटिंग आयोजित

अधिकारियों के साथ संवाद कर जानकारियां का किया गया आदान-प्रदान

सिंगरौली 3 अप्रैल 2024/ कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री चन्द्रशेखर शुक्ला एवं पुलिस अधीक्षक निवेदिता गुप्ता के द्वारा व्हीसी के माध्यम से सीमावर्ती जिलो के अधिकारियो के लोकसभा निर्वाचन 2024 के सफल क्रियान्वन हेतु बैठक आयोजित हुई। बैठक मे सीधी संसदीय क्षेत्र के सीमावर्ती जिलो के अधिकारियो के साथ सीमा प्रबंधन को लेकर चर्चा की गई। बैठक में सीमावर्ती जिले सीधी, रीवा मउगंज, एवं अंतराज्यी सीमा के जिले मिर्जापुर, सोनभंद्र के प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारी व्हीसी के माध्यम से उपस्थित रहे।

बैठक में एडीजी वाराणसी ने सीमावर्ती जिलो से संबंधित थानो की जानकारी ली। तथा आवश्यक निर्देश देते हुये कहा कि नियमिति गश्त करके सीमा पर आवाजाही के संबंध में थाना स्तर निरंतर संचार बनाये रखे। उन्होने कहा कि सीमावर्ती गावो का संयुक्त निरीक्षण करे तथा वाहनो की आवजाही पर कड़ी निगरानी बनाये रखने के लिए बैरियर एवं बुलेट कैमरो की उचित व्यवस्था बनाये रखे।

बैठक में जिलों के संबंध में सामान्य जानकारी का आदान-प्रदान हुआ। तथा कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी सिंगरौली चन्द्रशेखर शुक्ला के द्वारा बैठक में सीमावर्ती मतदान केन्द्रों के लोकेशन अनुसार जानकारियो से अवगत कराया गया। वही सीमा से लगे थानो की जानकारी एक-दूसरे को दी गई। बैठक में फरारी स्थाई वारंटियों की की जानकारी बॉर्डर नाका स्थलों की जानकारी, अवैध शराब बनाने तथा विक्रय, बॉर्डर नाका स्थलों की जानकारी, निर्वाचन के दौरान वॉयरलैस कम्युनिकेशन, जिले की सीमाओं से लगे जिलों के थानों के प्रभारी, पुलिस अधिकारियों की जानकारी का आदान-प्रदान किया गया। बैठक में जिला बदर आरोपियों, चुनाव प्रभावित कर सकने वाले व्यक्तियों, सांप्रदायिक तनाव की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्रों पर भी चर्चा की गई। बैठक में जिले के अधिकारियों को आपसी समन्‍वय से स्‍वतंत्रत, निष्‍पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन सम्‍पन्‍न कराने में एक दूसरे का सहयोग करने का निर्देश दिया गया। व्हीसी के दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गजेन्द्र िंसंह नागेश, अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी अरविंद झा, अपर कलेक्टर पी.के सेन गुप्ता, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शिवकुमार बर्मा, संयुक्त कलेक्टर संजीव पाण्डेय, डिप्टी कलेक्टर माइकेल तिर्की सहित जिलाधिकारी उपस्थित रहे।

Janvi Express News
[yop_poll id="3"]

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!